Software Engineering in hindi-सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या होता है और प्रकार

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में आपको html base tag in hindi के बारे आपको बताया जा रहा है की क्या होता है कैसे काम करता है तो चलिए शुरु करते है

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का क्या अर्थ है?

 उत्तर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का अर्थ एक ऐसी इंजीनियरिंग से है जिसमें कम्प्यूटर सिस्टम तथा किसी अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए सॉफ्टवेयर का निर्माण किया जाता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग को user की आवश्यकताओ का विश्लेष्ण करने और सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन को design ,निमार्ण और परिक्षण की प्रक्रिया के रूप में भी परिभाषित किया जाता है जो की उन आवश्यकताओ को पूरा करता है

 सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में सिस्टम के प्रकार लिखिए।

उत्तर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में सिस्टम निम्न प्रकार के होते हैं

(i) Physical system,

(ii) Absract system,

(iii) Open System,

(iv) Closed system,

(v) Man-made information system.

खण्ड ‘ब’ : लघु एवं दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में सिस्टम के प्रकारों का वर्णन कीजिए।

उत्तर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में सिस्टम के प्रकार निम्नलिखित हैं

1. भौतिक सिस्टम Physical System एक सिस्टम में विभिन्न घटकों का समावेश होता है। भौतिक सिस्टम ऐसी वस्तुओं का समूह होता है, जो वास्तव में उपस्थित हों, उनका भौतिक रूप होता है। ये Tangible or visible होती हैं अर्थात् tangible को देख सकते हैं, छू सकते हैं और काउंट कर सकते हैं। भौतिक सिस्टम को statically या dynamic रूप में ऑपरेट कर सकते हैं। Example : Static System: हम बैंक का उदाहरण लेते हैं जिसमें बहुत-सी वस्तुएँ फिजिकल होती है; जैसे टेबल, कुर्सी, कम्प्यूटर आदि यह सभी वस्तुएँ बैंक के कामकाज में उपयोगी होती हैं, साथ ही इन भौतिक वस्तुओं का उपयोग कर अन्य उपकरण प्राप्त किये जा सकते हैं। Dynamic system : कम्प्यूटर का प्रयोग कर विभिन्न रिपोर्ट, कस्टमर का डाटा आदि बनाया जाता है। इस प्रकार के

डाटा, रिपोर्ट, प्रोग्राम आदि सभी प्रयोगकर्ता के अनुसार बदलती रहती है अर्थात् यह डायनामिक होती है।

2. Abstract System इस प्रकार के सिस्टम का फिजिकल अस्तित्व नहीं होता है। किसी सिस्टम में दो या अधिक कंपोनेन्ट के बीच का फार्मूला आदि इस श्रेणी में आते हैं। Example : बैंक सिस्टम में किसी कस्टमर के कर्ज के ब्याज की गणना आदि इसके अन्तर्गत करते हैं। इस प्रकार के फार्मूला, एल्गोरिथम या मॉडल फिजिकल सिस्टम के वास्तविक रूप का प्रतिनिधित्व करते हैं। किसी कार्य को एक मॉडल के रूप में बनाने से सिस्टम के विभिन्न कम्पोनेन्ट्स के बीच के सम्बन्ध आदि को समझना आसान हो जाता है।

3. Open System ओपन सिस्टम ऐसा सिस्टम है, जो बाहर के पर्यावरण (environment) में स्वतन्त्रतापूर्वक इंटरेक्ट करता है। यह सिस्टम पर्यावरण से इनपुट लेता है और इसे ही आउटपुट लौटा देता है। इस सिस्टम का रिलेशन पर्यावरण से होता है। इसलिए जब पर्यावरण बदलता है, तब सिस्टम outdated labeled हो जाता है।

 4. Close System क्लोज्ड सिस्टम एक ऐसा सिस्टम है, जो बाहर के पर्यावरण से कोई रिलेशन नहीं रखता है। वातावरण में होने वाले कोई भी परिवर्तन इसको प्रभावित नहीं करते हैं। क्लोज्ड सिस्टम बहुत कम होते हैं।

 5. Man-made Information System इनफार्मेशन सिस्टम का प्रयोग जानकारी को रिसीव करने, स्टोर करने औरसेंड करने के लिए किया जाता है।

निवेदन:-आप सभी छात्र –छात्रों से निवेदन है की अगर आपको ये Topic(html base tag in hindi)अच्छा लगा हो तो कृपया आप इस वेबसाइट के बारे में अपने दोस्तों को जरुर बताये अगर कोई topic(html base tag in hindi ) से संबधित प्रश्न हो तो कमेंट्स(comments) आपके लिए ही बना है और किसी Subject के लेकर भी कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे “आपका comments हमारे लिए बहुमूल्य है “   *_*धन्यवाद

Leave a Comment