C++ type modifiers in hindi-c++ टाइप मोदिफिएर्स क्या है?

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में आपको c++ type modifiers in  hindi  के बारे में आपको बताया जा रहा है की क्या होता है कैसे काम करता है तो चलिए शुरू करते है

C++type modifiers का परिचय

  • c++ में आपको कुछ built in primitive data type(int,char और double) को modify (change) करने की capability को provide करती है तो ऐसे type के modifiers के द्वारा किया जाता है
  • किसी data type को change करने की आवश्यकता कई कारणों से हो सकती है example के लिए यदि आप एक integer variable की Age को create करते है जिसकी value को user से runtime में प्राप्त की जाती है
  • normally एक integer variable में negative values भी store की जा सकती है इसलिए आप  यह सम्भावना है की user कोई भी negative value को enter करे
  • लेकिन यदि आप चाहते है की आपका Age variable negative values न store करे तो इसके लिए आप type modifiers के प्रयोग से int को इस प्रकार modify कर सकते है की वह सिर्फ positive values ही store करेगा
  • type modifiers के द्वारा आप मुख्यत: किसी data type की size और उसकी sign के characterstics को change किया जा सकता है यानी की एक तो आप data type की size को change कर सकते है और इसके आलावा आप यह भी decide कर सकते है की data type के द्वारा negative value को allow की जाएगी या नहीं

different c++ type modifiers

c++ में क्रमश: signed,unsigned ,short और long 4 data type के modifiers को available होता है जिसके बारे में आपको निचे details से दिया जा रहा है

signed

इस type के modifiers को integer और character के साथ ही प्रयोग किया जाता है यह type modifiers को बताता है की variable में negative और positive दोनों तरह की variable को store की जा सकती है by default एक integer की signed ही होती है एक signed integer की range -32768 से 32767 तक होती है

integer के आलावा आप char के साथ भी इस type के modifiers का प्रयोग किया जा सकता है हलाकि आप कोई भी character को negative या positive नहीं हो सकती है लेकिन आप c++ में सभी characters को असल में numbers(ASCII codes) के द्वारा  ही represent किये जाते है

unsigned

इस modifiers को int और char के साथ ही प्रयोग किया जा सकता है जिसमे किसी integer variable को unsigned को डिफाइन किया जाता है तो उसमे आप सिर्फ positive values ही store की जा सकती है

जब आप unsigned char को डिफाइन करते है तो आप 0 से 255 तक की numbers से character को डिफाइन कर सकते है

short

इस modifiers को integer के साथ ही प्रयोग किया जाता है यह modifier integer की size को modify करने के लिए ही प्रयोग किया जाता है इस modifier के प्रयोग से आप integer की size को आधी हो जाती है

long

इस modifiers को int और long types के साथ ही प्रयोग किया जाता है इस modifier के प्रयोग से आप data type की size को दुगुनी हो जाती है

example of c++ type modifiers

c++ type modifiers के उपयोग को आपको निचे example के द्वारा समझाया गया है

#include<iostream>
Using namespace std;
Int main()
{
       Unsigned int numF=-3000;
         Signed int numS=-3000;
          Cout<<numF<<\n;
         Cout<<numS<<\n;
         Return 0;
}

उपर दिए गए example में आप numF एक unsigned integer variable है जिसमे -3000 value को store की जा सकती  है जब इसकी value को print की जाएगी तो एक random number को दिखाया जायेहा क्योकि यह एक unsigned integer होता है

इसके आलावा आप numS एक signed integer को variable है जब आप इसकी value को print की जाएगी तो -3000 ही print होगा क्योकि आप यह एक signed integer variable है यह example के निचे आपको आउटपुट generate होता है

247292920
-3000

c++ type modifiers in  hindi

reference-https://www.tutorialspoint.com/cplusplus/cpp_modifier_types.htm

निवेदन:-आप सभी छात्र –छात्रों से निवेदन है की अगर आपको ये Topic(c++ type modifiers in  hindi) या post अच्छा लगा हो तो कृपया आप इस वेबसाइट के बारे में अपने दोस्तों को जरुर बताये और -अगर कोई topic(c++ type modifiers in  hindi) से संबधित प्रश्न हो तो कमेंट्स(comments) आपके लिए ही बना है और किसी Subject के लेकर भी कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे

2 thoughts on “C++ type modifiers in hindi-c++ टाइप मोदिफिएर्स क्या है?”

Leave a Comment