What is entity in hindi-एंटिटी क्या होता है?

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में आपको entity in hindi के बारे में बताया गया है की इसे कैसे प्रयोग करते है तो चलिए शुरू करते है

Entities

एक Entity, एक Physical या Conceptual Object होती है। एक Physical Entity इस संसार की किसी वस्तु; जैसे—टेबल, कार, किताब, पेन इत्यादि, को Represent करती है;

जबकि एक Conceptual Object, किसी Concept; जैसे Project, Loan, Qualification इत्यादि, को Represent करता है।

एक Entity वस्तुओं के एक Class को Represent करती है, न कि किसी Instance को। उदाहरण के लिए, “Manesh” और “Shiva” STUDENT नामक Entity के दो Instances हैं। अतः किसी Entity का एक Instance उस Entity का एकमात्र अकरेन्स (Occurrence) होता है। दूसरे शब्दों में एक Entity, एक Entity Type का एक Instance होती है, जिसे Uniquely Identify किया जा सकता है। किसी Entity Type के Uniquely Identify किए जा सकने वाले Instance को एक Entity Occurrence या Entity Instance भी कहा जाता है।

इसे भी पढ़े –what is data model in hindi 

प्रत्येक Entity Type को एक नाम (Name) एवं प्रॉपर्टीज की एक सूची  से Identify किया जा सकता है। एक डेटाबेस में साधारणतया विभिन्न प्रकार के अनेक Entity type होते हैं। प्रत्येक Entity के अपने-अपने Attributes होते हैं जिनकी अपना होती है। उदाहरण के लिए, एक Book, एक Publisher या Person भिन्न-भिन्न Entity हा

Entity Set

एक समान प्रकार की Entities के Collection का एक Entity Set या Entity Type कहा जाता है। दूसरे शब्दों में, वे     Entities, जो Common Properties or Attributes का शेयर करते है, उन्ह एक Entity Set कहा जाता है। उदाहरण के लिए किसी संस्था के सभी कर्मचारिया (Employees) के एक Set को Employee नामक Entity Set कहा जा सकता है। इसी प्रकार सभी छात्रों (Students) के एक Set को STUDENT नामक Entity Set तथा सभी Courses के एक Set को COURSE नामक Entity Set कहा जा सकता है।

Strong Entity Set

वे Entity Types, जिनके पास एक Key Attribute होता है, उन्हें Strong Entity Types या Regular Entity Types कहा जाता है। उदाहरण के लिए, Employee नामक Entity का Key Attribute, EmpCode है, जो इसे Uniquely Identify करता है; अतः यह एक Strong Entity है।

Weak Entity Set

एक Weak Entity वह Entity होती है, जिसका Existence, किसी दूसरी Entity पर निर्भर करता है। इसी कारण इसे Depend Entity भी कहा जाता है। एक Weak Entity का कोई भी Key Attribute नहीं होता है; अतः इसे Independently Identify नहीं किया जा सकता है।

इसे केवल और केवल किसी अन्य Entity के Primary Key Attributes के साथ-साथ इसके कुछ Attributes पर विचार करते हुए Uniquely Identify किया जा सकता है, जिसे आइडेन्टिफाइंग ऑनर एन्टिटी (Identifying Owner Entity) कहते हैं। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि Marks एक Entity है जो Student नामक Entity से सम्बन्धित है,

जिसका प्रयोग प्रत्येक छात्र (Student) के Marks की जानकारी रखने के लिए किया जाता है। Marks एन्टिटी के Attributes हैं—EngMarks, SciMarks, SSTMarks इत्यादि। यहां Marks नामक Entity का अपना Existence नहीं है; क्योंकि यह Student एन्टिटी पर Dependent अर्थात् निर्भर है। इस तरह Student एन्टिटी के बिना Marks एन्टिटी का कोई महत्व नहीं है। अतः Marks एक  Weak Entity है।

entity in hindi

reference-https://www.javatpoint.com/jpa-entity-

निवेदन:-आप सभी छात्र –छात्रों से निवेदन है की अगर आपको ये Topic(entity in hindi) अच्छा लगा हो तो कृपया आप इस वेबसाइट के बारे में अपने दोस्तों को जरुर बताये अगर कोई topic(entity in hindi) से संबधित प्रश्न हो तो कमेंट्स(comments) आपके लिए ही बना है और किसी Subject(entity in hindi) के लेकर भी कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे

Leave a Comment