Financial Accounting in hindi-वित्तीय लेखांकन

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में आपको Financial Accounting in hindi के बारे में बताया गया है की क्या होया है कैसे काम करता है तो चलिए शुरू करते है

वित्तीय लेखांकन(Financial Accounting)

मुद्रा में सम्बन्धित लेन-देनों (Monentry Transactions) वर्गीकरण (Classification) और संक्षिप्तिकरण (Summarization) की प्रक्रिया को फाइनेन्शियल एकाउन्टिंग (Financial Accounting) कहा जाता है। ज्ञात हो, दो व्यक्तियों या दो संस्थाओं अर्थात् दो पार्टियों के बीच वस्तुओं (माल) या सेवाओं (Goods or Services) के आदान-प्रदान की क्रिया को ट्रान्जैक्शन (Transaction) कहा जाता है

वित्तीय गुण वाले ट्रान्जैक्शन को बिजनेस ट्रान्जैक्शन (Business Transaction) कहा जाता है। यदि किसी ट्रान्जैक्शन का गुण वित्तीय नहीं होता है, तो उसे एकाउन्टस (Accounts) की पुस्तक (Book) में रिकॉर्ड नहीं किया जाता है। इसका तात्पर्य यह है कि बिजनेस ट्रान्जैक्शन का तात्पर्य हमेशा ही वित्तीय ट्रान्जैक्शन से होता है।

यद्यपि फाइनेन्शियल एकाउन्टिंग में प्रबन्ध से सम्बन्धित कुछ सूचनायें भी जेनरेट होती हैं परन्तु इसका प्रमुख उद्देश्य नियोक्ताओं (Investors) और ऋणदाताओं (Creditors) के लिए व्यापारिक संस्था की वास्तविक आर्थिक स्थिति को चित्रित करना या दर्शाना होता है।

कम्प्यूटरीकृत फाइनेन्शियल एकाउन्टिंग में मॉनिटरी ट्रान्जैक्शन्स (Monetary Transactions) अर्थात् मुद्रा से सम्बन्धित ट्रान्जैक्शन्स की रसीदों (Receipts) और व्यय के मदों (Funds of Expenditure) को फाइनेन्शियल एकाउन्टिंग मॉडयूल (Financial Accounting Module) में डेटाबेस के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता है

तथा इन्हें जर्नल्स (Journals) में मेनटेन किया जाता है। विदित हो कि एक निश्चित समयावधि पर बेसिक फाइनेन्शियल स्टेटमेन्टस (Basic Financial Statements) जैसे-बैलेन्स शीट और इनकम स्टेटमेन्ट को अपडेट करने के लिए जर्नल (Journal) का प्रयोग किया जाता है।

यद्यपि विभिन्न संस्थाओं के एकाउन्टिंग विभाग परम्परागत रूप से कम्प्यूटर का प्रयोग होता है; परन्तु लम्बे समय से चले आ रहे सामान्यत: स्वीकार्य लेखांकन सिद्धान्त (Generally Accepted Accounting Principles [GAAP]) कुछ हद तक एकाउन्टिंग-एप्लीकेशन्स को दबाता आ रहा है।

ऑटोमेटेड एकाउन्टिंग के साथ दूसरी समस्या यह है कि इसमें एकाउन्टिंग प्रविष्टियों (Accounting Entires) का बैकअप (Backup) लेने के लिए एक ऑडिट-ट्रेल (Audit Trail) की आवश्यकता होती है। विदित हो कि रैन्डम एक्सेस फाइल्स (Random Access Files) और डेटाबेस फाइलों को ऑडिट करना काफी मुश्किल होता है

और कई परिस्थितियों में गैप (GAAP) की अज्ञानकलता (Complainee) के लिए प्रोसेसिंग स्पीड पर भी ध्यान नहीं दिया जाता है।

छोटे से मध्यम दर्जे की कम्पनियों में कम्प्यूटरीकृत फाइनेन्शियल एकाउन्टिंग के लिए रैली (Tallv) जैसे विशिष्ट सॉफ्टवेयर पैकेज का प्रयोग होता है। एकाउन्टिंग सॉफ्टवेयर का प्रयोग र प्रविशिष्टियों बिलिंग (Billing), कन्ट्रोल (Inventory Control) सेल्स एनालिसिस (Sales Analysis) टैक्स-कैल्कुलेशन (Tax-Calculation) पे-रोल (Pay Roll) तैयार करने का एनालिसिस (Budget Analysis) करने, विभिन्न सरकारी डॉक्यूमेन्ट्स तैयार इत्यादि केला होता है।

निवेदन-अगर आपको यह आर्टिकल(Financial Accounting in hindi) अच्छा लगा हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे और आपको जिस टॉपिक पर आपको पढना या नोट्स(Financial Accounting in hindi ) हमारे लिए बहु मूल्य है धन्यवाद

Leave a Comment